दियोटसिद्व में सराय संचालकों की फिर खुली फाइल

0
36

विनोद चड्ढा कुठेड़ा

जांच पूरी होते ही होगी लाखों की रिकवरी

दियोटसिद्व नगर में सराय संचालाकों का मामला सरकार के दरबार से फिर जांच के लिए हमीरपुर अबाकारी कराधान विभाग को लौट आया है। अब लाखों की रिकवरी के इस मामले में आबाकारी कराधान विभाग हमीरपुर फिर से जांच करके लाखों की पेनलटी की रिकवरी को वसूल करेगा। मामले की पुष्टि विभाग के संबंधित अधिकारी ने बताया कि सराय संचालकों को लगाई गई पेनलटी का मामला स्टेट एक्साईज कमीशनर ऑफिस से जांच के लिए भेजा गया है।

जिसमें विभाग ने जांच शुरू कर दी है। जो तीन सराय माफिया विभाग की कार्रवाई को लेकर अपील में गए थे। उन्हें 5 अक्टूबर शुक्रवार को हमीरपुर कार्यालय तलब किया गया था। पेनलटी की रिकवरी मामले की जांच शुरू कर दी गई है। जांच पूरी होते ही विभाग इस रिकवरी को वसूलेंगा। करीब 15 लाख की रिकवरी लंबे अरसे से अपील में जाने के कारण सराय संचालको ने रोक रखी थी।

क्या था मामला

धर्म के नाम पर सरायों में धंधा करने वाले सराय माफिया पर करीब चार साल पहले आबाकारी कराधान विभाग ने छापेमारी में सरायों का रिकार्ड जब्त किया गया था। जिसकी प्रारंभिक जांच में पाया गया था कि धर्म के नाम पर दियोटसिद्व में स्थित सरायों में सलाना करोड़ों का धंधा होता है। लेकिन इस धंधे की राशि पर कोई टैक्स सरकार को नहीं दिया जाता। धर्म के नाम पर चल रहे व्यवसायिक धंधे पर टैक्स वसूलने के लिए विभाग ने यह कार्रवाई की थी। इस कार्रवाई में दियोटसिद्व मंदिर ट्रस्ट की सराय भी शामिल थी।

लेकिन कानूनन ट्रस्ट की सरायों व बीबीसत्य देवी सराय व कुछ अन्य सरायों ने टैक्स की यह राशि उसी दौरान चुका दी थी। जबकि फगवाड़ा वाली सराय , लुधियाना वाली सराय व जांलधर वाली सराय के तीन संचालक अपील में चले गए थे। जिस कारण से पेनलटी की यह राशि लगातार लटकती आ रही थी। उल्लेखनीय है कि सैंकड़ों कमरो की इन तीनों सरायों के संचालक गैर हिमाचली है।

जिनके पास राज्य सरकार की धारा 118 की अनुमति तक नहीं है। बावजूद इसके करोड़ों का धंधा सराय संचालक धर्म के नाम पर यहां सलाना करते है। जिसका कोई टैक्स तक नहीं चुकाया जाता है। अब, इस मामले की जांच फिर से खुली है। जिसके पूरे होते ही रिकवरी वसूलने की कार्रवाई पूरी होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here